Himachal Poltics

मेरे प्रदेशवासियों को मिले प्रत्येक सुविधा, यही है लक्ष्य : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी का कहना है कि हिमाचल की जनता को असुविधा का सामना न करना पड़े, इसी लक्ष्य के साथ कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार प्रदेश के चहुंमुखी विकास के लिए बिना किसी भेदभाव और प्रतिशोध की भावना से कार्य करने में विश्वास रखती है। हम प्रदेश के संतुलित और न्यायसंगत विकास के लिए प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री जी ने 20 और 21 जनवरी को जिला ऊना, कांगड़ा और बिलासपुर का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने करोड़ों की लागत वाले विकासात्मक कार्य एवं परियोजनाओं के शिलान्यास किए। दो दिवसीय प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने ऊना जिले के गोंदपुर बनहेड़ा में हिमाचल प्रदेश शिक्षक संघ के चतुर्थ क्षेत्रीय सेमिनार में भाग लिया। यहां जनसभा को संबोधित करते मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में तैनात पीजीटी के नामावली प्रवक्ता (लैक्चरर) के रूप में बदली जाएगी और इस संदर्भ में अधिसूचना शीघ्र ही जारी की जाएगी इसके अतिरिक्त राज्य में सभी वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं में उप प्रधानाचार्य के पद सृजित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने गुणात्मक शिक्षा पर बल देते हुए कहा कि मूल्यों के बिना शिक्षा समाज के लिए विनाशकारी है। सुदृढ़ समाज के लिए विद्यार्थियों में उच्च नैतिक मूल्यों को विकसित करना शिक्षकों का कर्तव्य है। शिक्षकों को हमारी संस्कृति और परम्परा के बारे में छात्रों को शिक्षित करना चाहिए ताकि वह अपनी समृद्ध संस्कृति और इतिहास पर गर्व कर सकें।
शिक्षा क्षेत्र में हिमाचल सर्वश्रेष्ठ राज्य

ऊना प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि एक छोटा राज्य होने के बावजूद भी हिमाचल प्रदेश को देश के बड़े राज्यों की श्रेणी में शिक्षा क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ राज्य के रूप में चुना गया है, जिसका श्रेय हिमाचल सरकार की बेहतर नीतियों के अलावा शिक्षकों को भी जाता है। उन्होंने कहा कि एक समय में हमारे देश को विश्व गुरु के रूप में जाना जाता था और यहां की गुरु-शिष्य की परम्परा को सभी सराहते थे। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि यह परम्परा धीरे-धीरे लुप्त हो रही है। उन्होंने शिक्षकों से एक बार फिर सामूहिक रूप से कार्य करने का आग्रह किया ताकि इस खोए हुए गौरव को वापस पाया जा सके। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि परीक्षाओं के दौरान छात्रों में नकल की बढ़ती प्रवृत्ति की जांच के लिए शिक्षकों को भी आगे आना चाहिए। शिक्षकों को छात्रों को नैतिक मूल्यों के बारे में जागरूक करना चाहिए ताकि वे खुद ही नकल न करें। शिक्षकों को अपने आचरण और चरित्र से एक उदाहरण स्थापित करना चाहिए।

मजबूत-प्रगतिशील राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि एक मजबूत और प्रगतिशील राष्ट्र के निर्माण में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण है। नशीली दवाओं के बढ़ते दुरुपयोग की जांच के लिए शिक्षकों को भी आगे आना चाहिए। शिक्षकों को छात्रों की बदलती आदतों और व्यवहार पर नजर रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने हाल ही में अपने कार्यकाल का एक वर्ष पूरा किया है और यह एक वर्ष कई प्रमुख पहलों और कई विकास प्रयासों से भरा हुआ है।

लाखों की राशि से संवरेंगे स्कूल भवन
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मुबारकपुर, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बेधरा, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला घनयान और खंड अधिकारी कार्यालय के निर्माण के लिए 20 लाख रुपये, 15 लाख रुपये, 10 लाख रुपये और 15 लाख रुपये देने की घोषणा की। उन्होंने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गोंदपुर बनहेड़ा में मैदान के निर्माण के लिए 10 लाख रुपये की घोषणा की। इस दौरान मुख्यमंत्री जी को महासंघ के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 31,000 रुपये का चैक भेंट किया। वहीं सम्मेलन को संबोधित करते हुए शिक्षा मंत्री श्री सुरेश भारद्वाज जी ने कहा कि शिक्षक हमारे समाज को शिक्षित बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हमारे शास्त्रों में शिक्षकों का स्थान देवताओं के तुल्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि इसी कारण शिक्षकों की जिम्मेदारी और अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है।

फतेहपुर में बनेगा मिनी सचिवालय
जिला कांगड़ा के फतेहपुर प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने रेहन क्षेत्र में जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रेहन को 50 बिस्तरों वाले नागरिक अस्पताल के रूप में स्तरोन्नत करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि फतेहपुर क्षेत्र में पानी की समस्या के हल के लिए ब्रिक्स के अंतर्गत तैयार 51 करोड़ रुपये की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट को दूसरे चरण में फंडिंग के लिए भेजा जाएगा। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने धर्मशाला में अपनी गरिमामयी उपस्थिति से हमारी सरकार का कार्यकाल एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर आयोजित समारोह की शोभा बढ़ाई। प्रधानमंत्री जी ने हमारी सरकार के प्रयासों की सराहना की और राज्य के लोगों के कल्याण के लिए आरम्भ की गई कई योजनाओं की सराहना भी की। उन्होंने कहा कि इस अवधि के दौरान उन्होंने राज्य के कुल 68 निर्वाचन क्षेत्रों में से 64 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा किया है ताकि लोगों की आकांक्षाओं और अपेक्षाओं के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके।

राजस्थान सरकार के समक्ष उठाएंगे पौंग विस्थापितों का मामला : मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि हमारी सरकार द्वारा उच्च स्तर पर राजस्थान सरकार के साथ पौंग डैम विस्थापितों के पुनर्वास का मामला उठाया जाएगा और जल्द ही इसका कोई स्थाई समाधान निकाला जाएगा। उन्होंने राजकीय महाविद्यालय देहरा में एम.कॉम और एम.एस.सी भौतिकी कक्षाएं आरंभ करने और सकरी गांव को जोड़ने के लिए पुल के निर्माण की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राजा का तालाब में उप-तहसील खोलने के मामले पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा। उन्होंने मध्य हिमालय सामुदायिक केंद्र के निर्माण के लिए 10 करोड़ रुपये देने की घोषणा की।

उठाऊ सिंचाई योजना का शुभारंभ
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने 1.02 करोड़ रुपये की लागत से तैयार उठाऊ सिंचाई योजना का शुभारम्भ किया। उन्होंने 1.90 करोड़ रुपये की राशि से बनी खदौन-मोहर-लागरा-खट्टान उठाऊ जलापूर्ति योजना का भी उद्घाटन किया। इसके अलावा 3.30 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित फतेहपुर पुलिस थाना भवन का शुभारम्भ किया और फतेहपुर में 12 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले संयुक्त कार्यालय भवन (मिनी सचिवालय) की आधारशिला रखी। इस दौरान पूर्व सांसद श्री कृपाल परमार जी ने कहा कि क्षेत्र के लोगों ने अपनी प्रमुख भूमि पौंग बांध के निर्माण के लिए दी है, लेकिन आज भी वे पुनर्वास की प्रतीक्षा कर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री जी से इस बांध के कारण बेघर लोगों के उचित पुनर्वास के लिए राजस्थान सरकार से मामले को उठाने का आग्रह किया। उन्होंने मुख्यमंत्री से क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने का भी आग्रह किया तथा क्षेत्र की विभिन्न विकासात्मक मांगों को विस्तार से रखा।

मुख्यमंत्री जी ने धर्मशाला में किए करोड़ों की परियोजनाओं के शिलान्यास
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने धर्मशाला स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत धर्मशाला शहर में 145.43 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली विभिन्न परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास किए। मुख्यमंत्री जी ने नागरिकों को आनलाइन सुविधा प्रदान करने के लिए 1.29 करोड़ की लागत से स्थानीय शासन के विकास और स्थानीय सेवाओं के विकास व सुधार के लिए धर्मशाला स्मार्ट सिटी में उपलब्ध विभिन्न सेवाओं पर जीआईएस वेब पोर्टल का शुभारम्भ किया। उन्होंने 1.17 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित ई-नगरपालिका और स्मार्ट बीकन का शुभारंभ किया। उन्होंने 35 लाख रुपये की लागत से विकसित डीएससीएल वेबसाइट, जो नागरिकों के लिए आईटी का उपयोग करने के लिए मुख्य रूप से सूचना की गुणवत्ता में समग्र दक्षता और प्रभावशीलता बढ़ाने के लिए एकीकृत वेब एप्लिकेशन है, का भी शुभारम्भ किया। उन्होंने धर्मशाला स्मार्ट सिटी के रूफ टॉप सोलर पावर प्लांट की आधारशिला भी रखी, जिसका निर्माण 1.59 करोड़ रुपये की राशि खर्च कर किया जाएगा।

धर्मशाला में बनेगा फ्री बस शेल्टर
धर्मशाला प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने स्मार्ट रोड, इंटेलिजेंट बैरियर, फ्री बस शेल्टर, पार्क, खेल मैदान और समावेशी गलियों की आधारशिला भी रखी। उन्होंने 3.51 करोड़ और 5.49 करोड़ रुपये की लागत से पूरा होने वाले रूट जोन ट्रीटमेंट सीवरेज और अत्याधुनिक पोटेबल टैपड वाटर की भी आधारशिला रखी। रूट ट्रीटमेंट प्लांट विशेष पौधों के भिगोकर पानी को साफ करने की तकनीक है। स्मार्ट सिटी की आंतरिक सड़कों के निर्माण और सुधार के लिए मुख्यमंत्री जी ने 6.82 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली समावेशी सड़कों का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री जी ने 24.44 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले इंटीग्रेटेड कमांड कंट्रोल केन्द्र भवन का शिलान्यास किया, जिसमें डेटा केन्द्र, कमांड एंड कंट्रोल केन्द्र, मेयर कार्यालय और प्रशासनिक कार्यालय आदि होंगे। उन्होंने 9.37 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले इटेलीजेंट और बैरियर फ्री बस शेल्टर की आधारशिला रखी, जिसमें यात्री सूचना प्रणाली, रियल टाईम जानकारी और निगरानी कैमरों तथा स्मार्ट सूचना कियोस्क सुविधाएं होंगी।

गल्र्स स्कूल धर्मशाला में बनेगा स्मार्ट क्लासरूम
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने 3.77 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले पार्कों और खेल के मैदानों, प्लेस मेकिंग की भी आधारशिला रखी। इस परियोजना के तहत स्मार्ट सिटी में योग करने के स्थानों के अतिरिक्त पैदल चलने योग्य मार्गों के साथ थीम पार्क जैसी सुविधाएं विकसित की जाएगी। इसके अन्तर्गत थीम पार्कों और दो प्लेस मेंकंग विकसित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री जी ने राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला धर्मशाला में 3.55 करोड़ रुपये निर्मित होने वाले स्मार्ट क्लासरूम का भी शिलान्यास किया। धर्मशाला स्मार्ट सिटी में 10 सरकारी स्कूलों में 65 क्लासरूम विकसित किए जाएंगे। ये क्लास रूम आधुनिक सुविधाओं जैसे डिजिटल पाठ्यक्रम सामग्री, इंटरेक्टिव स्मार्ट बोर्ड, प्रोजेक्टर, आईपी कैमरा, इंटरनेट, क्लास रूम फर्नीचर तथा वाटर एटीएम से सुसज्जित होंगे। मुख्यमंत्री जी ने धर्मशाला स्मार्ट सिटी के लिए 84.04 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली स्मार्ट सड़कों की आधारशिला भी रखी। इस परियोजना के तहत कुल  32.63 किलोमीटर लंबी 28 सड़कों को स्मार्ट सड़कों के रूप में विकसित किया जाएगा।

Source

Related posts

‘मौसम बदलते हैं मगर धीरे-धीरे, तेरे बदलने की रफ़्तार से तो हवाएं भी हैरान हैं’

digitalhimachal

दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल को मिली जान से मारने की धमकी!

digitalhimachal

हिमाचल में जिला आपदा प्राधिकरणों को मिले सेटेलाइट फोन

digitalhimachal

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy