Bollywood News in Hindi

छत्तीसगढ़ -रायपुर :में 6 रुपए किलो बिक रहा टमाटर, रोज पाक को भेजता था 20 लाख की सब्जी

रायपुर। अब पाकिस्तानी जनता छत्तीसगढ़ के टमाटर का स्वाद नहीं ले पाएगी। टमाटर के साथ ही यहां से पाक जाने वाली हरी मिर्च, शिमला मिर्च, तरबूज और पपीता पर भी वहां भेजे जाने पर बैन लगा दिया गया है। सब्जी व्यापारियों के साथ ही किसानों ने भी यह फैसला पिछले दिनों पुलवामा में हुए आतंकी हमले के विरोध में लिया है।

सब्जी कारोबारियों का कहना है कि भले ही यहां की सब्जियां आवक अधिक होने के कारण और सस्ती हो जाए या उन्हें नुकसान ही क्यों न हो, लेकिन पाक नहीं जाएंगी। बताया जा रहा है कि बीते सप्ताह ही इस संबंध में सब्जी कारोबारियों की एक बैठक हुई थी और बैठक में फैसला लिया गया कि अब यहां की सब्जियां पाक नहीं जाएंगी। बताया जा रहा है कि रोजाना यहां से करीब 20 लाख की सब्जियां पाक जाया करती थीं।

एक ओर इन दिनों सब्जियों के पाक जाने पर बैन लगा दिया है। वहीं दूसरी ओर आवक अधिक होने के चलते कुछ सब्जियों के दाम गिर गए हैं तथा उपभोक्ताओं को सब्जियां काफी सस्ती मिल रही है। विशेषकर टमाटर, प्याज, पत्ता गोभी की कीमतों में गिरावट आई है।

मंगलवार को थोक सब्जी बाजार में टमाटर थोक में छह रुपये किलो, गोभी 15 रुपये किलो, पत्ता गोभी पांच रुपये किलो, भिंडी 30 रुपये किलो, मटर 14 रुपये किलो, आलू छह रुपये किलो तथा प्याज भी चार-छह रुपये किलो में बिकी।

चिल्हर में भी टमाटर 10 रुपये किलो, गोभी 25 रुपये किलो, पत्ता गोभी 10 रुपये किलो, भिंडी 40-50 रुपये किलो, करेला 70-80 रुपये किलो बिक रहा है। सब्जी कारोबारियों का कहना है कि आने वाले दिनों में भरपुर आवक को देखते हुए सब्जियों की कीमतों में गिरावट के ही संकेत है।

थोक सब्जी व्यावसायी संघ के अध्यक्ष टी श्रीनिवास रेड्डी का कहना है कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के विरोध में ही सब्जियों के पाक जाने पर बैन लगाया गया है। बीते 16 फरवरी से यहां की सब्जियां पाक नहीं जा रही हैं।

Related posts

पिता सैफ के साथ ‘लव आजकल 2’ में काम नहीं करेंगी सारा, जानिए वजह

digitalhimachal

AICWA ने की घोषणा, पाकिस्‍तानी कलाकार पूरी तरह से हों बैन

digitalhimachal

सलमान की मोस्‍ट अवेटेड फिल्‍म ‘भारत’ की शूटिंग पूरी फिल्‍म के ट्रेलर और गानों का इंतजार

digitalhimachal

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy