Haryana Himachal New Delhi

गुड़गांव दुनिया में सबसे प्रदूषित, टॉप-5 में भारत के 4 शहर

  • गाजियाबाद दूसरे नंबर पर, टॉप-5 में फरीदाबाद और भिवाड़ी भी शामिल
  • टॉप 10 में चीन का सिर्फ एक और पाक के दो शहर शामिल
  • प्रदूषण का आकलन पीएम2.5 कणों के आधार पर किया गया

दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में गुड़गांव टॉप पर है। आईक्यू एयरविजुअल और ग्रीनपीस की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। वहीं दुनिया के टॉप-10 प्रदूषित शहरों में भारत के 7 शहर हैं। टॉप-5 में पाकिस्तान के फैसलाबाद के अलावा 4 शहर भारत के ही हैं। प्रदूषण का आकलन पीएम2.5 कणों के आधार पर किया गया है। पीएम2.5 कण अत्यंत महीन होते हैं और फेफड़ों को नुकसान पहुंचाते हैं।

                                                     ‘प्रदूषण के खासे दुष्प्रभाव’

  1. ग्रीनपीस के दक्षिण-पूर्व एशिया के कार्यकारी निदेशक येब सानो के मुताबिक, “प्रदूषण का खासा दुष्प्रभाव पड़ता है। यह हमारे स्वास्थ्य और जेब पर असर डालता है। इससे जिंदगियों तो खत्म हुई हीं, साथ ही अनुमानित 225 बिलियन डॉलर (करीब 15 लाख करोड़ रुपए) का भी नुकसान हुआ और करोड़ों डॉलर दवाओं पर खर्च हुए।”
    1. भारत दुनिया की सबसे तेज बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। 30 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में भारत के 22 शहर हैं। चीन के 5, पाक के दो और एक बांग्लादेश का शहर है। वर्ल्ड बैंक के मुताबिक- प्रदूषण के चलते भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 8.5% का नुकसान हुआ।
    2. उधर प्रदूषण का स्तर कम करने में चीन को खासी कामयाबी मिली है। चीन में 2017 के मुकाबले 2018 में प्रदूषण के स्तर में 12% की गिरावट देखी गई। कहा जा रहा है कि इस हफ्ते नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की होने वाली बैठक में राष्ट्रपति शी जिनपिंग प्रदूषण की गंभीर समस्या से निपटने के लिए संदेश भी देंगे।
    3.                                                                             टॉप 10 में भारत के 7 शहर
      रैंक शहर प्रदूषण का स्तर
      1 गुड़गांव (हरियाणा) 135.8
      2 गाजियाबाद (उत्तरप्रदेश) 135.2
      3 फैसलाबाद (पाक) 130.4
      4 फरीदाबाद (हरियाणा) 129.1
      5 भिवाड़ी (राजस्थान) 125.4
      6 नोएडा (उत्तरप्रदेश) 123.6
      7 पटना (बिहार) 119.7
      8 होतान (चीन) 116.0
      9 लखनऊ (उत्तरप्रदेश) 115.7
      10 लाहौर (पाक) 114.7

       

Related posts

पहाड़ी रियासतों में क्रांति की चिंगारी : रानी खैरागढ़ी

digitalhimachal

कमाई मोटी-स्तर निम्न..! मेलों से 25 करोड़ इक्कठा कर खर्चे मात्र 19 करोड़, अब होगा ऑडिट

digitalhimachal

मैंने हमेशा OBC प्रतिनिधित्व की पैरवी की: जीएस बाली

digitalhimachal

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy