Himachal kabaddi Nalagarh Solan News in Hindi Sports

हिमाचली बेटे अजय ठाकुर को मिला ‘पद्मश्री’ पुरस्कार, राष्ट्रपति ने किया सम्मानित

हिमाचल से संबंध रखने वाले भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान अजय ठाकुर पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित हुए हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में इस साल पद्म पुरस्कारों के लिए चुने गए 112 शख्सियतों में से 56 लोगों को प्रतिष्ठित पुरस्कार प्रदान किया।

बता दें कि 16 मार्च को राष्ट्रपति अन्य विभूतियों को पुरस्कार प्रदान करेंगे। वर्ल्ड कबड्डी विजेता एवं भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान अजय ठाकुर को पद्म श्री अवॉर्ड मिला है, जिससे हिमाचल प्रदेश में खुशी की लहर है। अजय ठाकुर को ये सम्मान देश का नाम पूरी दुनिया में रोशन करने और कबड्डी में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए मिला। बता दें कि अजय ठाकुर हिमाचल के नालागढ़ शहर के रहने वाले हैं। अजय ठाकुर ने जनार्दन सिंह गहलोत का भी शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि उनकी वजह से ही आज देश में कबड्डी को ये मुकाम हासिल हुआ है।

भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान अजय ठाकुर का जन्म 1 मई सन 1986 में हिमाचल प्रदेश के नालागढ़ जिले के दभोटा गांव में हुआ था। अजय ठाकुर को साल 2016 में हुए कबड्डी विश्वकप के फाइनल में शानदार प्रदर्शन कर विशेष प्रसिद्ध हुए। अजय ठाकुर की बेहतरीन पारी के कारण ही भारत ने ये टूर्नामेंट पहले हाफ में ईरान से पिछड़ने के बाद जीता था। कबड्डी विश्वकप में सबसे ज्यादा रेड प्वाइंट हासिल करने के लिए उन्हें रेडर ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था। फाइनल मुकाबले में अजय ठाकुर ने कुल 12 रेड प्वाइंट और कुल 68 रेड प्वाइंट हासिल किये थे।

इससे पहले इंचियोन में साल 2014 में हुए एशियाई खेलों में भारत को गोल्ड मेडल दिलाने में अजय ठाकुर की भूमिका महत्वपूर्ण रही थी। पिछले 14 वर्ष से अजय ठाकुर भारत के लिए कबड्डी खेल रहे हैं और कबड्डी उनके लिए एक खेल नहीं बल्कि जुनून है यही वजह है कि साल 2014 के प्रो कबड्डी लीग में टायफायड और तेज बुखार से पीड़ित होने के बावजूद अजय ठाकुर टीम के लिए खेलते रहे।

Source

Related posts

विधानसभा- मोदी जी- मोदी जी चिल्लाने से बात नहीं बनने वाली, बजट में तो सिर्फ प्रपोजल हैं- सिंघा

digitalhimachal

सिरमौर: घास लेने जा रही महिला के साथ जीजा-साले ने किया दुष्कर्म

digitalhimachal

BSNL कंपनी हो सकती है बंद, सरकार ने दिए निर्देश! जानें क्यों

digitalhimachal

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy