Fashion Lifestyle

पहले मिस एशिया बनी मूक बधिर सुंदरी, अब युवा मतदाताओं की बनी आईकॉन

जितेंद्र यादव, इंदौर। वह जन्म से ही मूक-बधिर हैं, लेकिन इस कुदरती कमतरी को उसने कभी लाचारी नहीं बनने दिया। आज वह युवा मतदाताओं की आईकॉन है और देश और समाज के लिए कुछ अलग करने का जज्बा रखती है। हम बात कर रहे हैं 21 साल की देशना जैन की।

भारत निर्वाचन आयोग की यूथ आईकॉन बनकर देशना ने मप्र विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को जागरूक करने के कई वीडियो बनाए। 2018 में वह ताईवान में मूक-बधिर सौंदर्य प्रतियोगिता में मिस एशिया चुनी गई थीं।

गणतंत्र दिवस पर इंदौर जिला प्रशासन देशना को सम्मानित करेगा। देशना कहती हैं- लोगों की अपनी भाषा होती है, जिसे हम समझ नहीं पाते, तो हम मूक-बधिरों की भी भाषा होती है साइन लैंग्वेज, जिसे सामान्य लोग समझ नहीं सकते।

 

अपनी मां दिव्या जैन के जरिए देशना बताती हैं- सरकारी दफ्तरों व डॉक्टर के पास जब हम जाते हैं तो अपनी बात समझा नहीं पाते। उस समय हमें साइन लैंग्वेज जानने वाले की जरूरत होती है। सरकार को चाहिए कि हर दफ्तर में एक साइन लैंग्वेज जानने वाला रखे।

Related posts

हिमांश कोहली से ब्रेकअप के बाद ‘इसमें तेरा घाटा’ गाना गा रही हैं- नेहा कक्कड़

digitalhimachal

देशभर की 29 दवाओं सहित हिमाचल में बनी 8 दवाओं के सैंपल फेल

digitalhimachal

दूध से नहाती है यह एक्ट्रेस, पहनती है चांदी की चप्पल और सोने की घड़ी, उम्र है सिर्फ 21 साल

digitalhimachal

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy