Himachal Jammu Kashmir National

पुलवामा हमले में 37 जवान शहीद, विरोध में जम्मू-कश्मीर बंद, जांच के लिए NIA टीम रवाना

Pulwama attack जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि वह वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे और ये जानने की कोशिश करेंगे कि आखिर चूक कहां हुई है. पाकिस्तान द्वारा इस हमले में अपनी भागीदारी नकारने के बाद सत्यपाल मलिक ने कहा है कि पाकिस्तान बकवास कर रहा है. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में सफल पंचायत चुनाव के बाद बौखलाया हुआ है.

जम्मू-कश्मीर में पुलवामा में हुए आतंकी हमले में 37 जवानों की शहादत के बाद हिन्दुस्तान में गम और गुस्सा है. इस हमले के विरोध में आज पूरा जम्मू-कश्मीर बंद है. जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई है. इस मुद्दे पर दिल्ली में सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी की बैठक में भारत ने पाकिस्तान से मॉस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) देश का दर्जा छीन लिया है. इस बैठक के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह जम्मू-कश्मीर रवाना हो गए हैं. यहां पर वे शहीद जवानों को दी जानी वाली श्रद्धांजलि सभा में भी शामिल रहेंगे.

इस बीच NIA की टीम घटनास्थल के लिए रवाना हो गई है. पुलवामा में गुरुवार को जहां हमला हुआ था, वहां बारिश हो रही है. सबूतों को बचाने के लिए घटनास्थल को प्लास्टिक से ढक दिया गया है. घटनास्थल पर रात भर सेना के जवानों ने पहरा दिया है. इस वक्त वहां कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है.

इस बीच मामले की गंभीरता को देखते हुए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी स्वीडन दौरे को रद्द कर वापस लौट आईं हैं. जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि वह भी शहीद सैनिकों को दी जाने वाली श्रद्धांजलि सभा में शिरकत करने जा रहे हैं.

उन्होंने कहा है कि वे वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे और ये जानने की कोशिश करेंगे कि आखिर चूक कहां हुई है. पाकिस्तान द्वारा इस हमले में अपनी भागीदारी नकारने के बाद सत्यपाल मलिक ने कहा है कि पाकिस्तान बकवास कर रहा है. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में सफल पंचायत चुनाव के बाद बौखलाया हुआ है. घाटी में पत्थरबाजी बंद हो गई है, नये आतंकियों की भर्ती नहीं हो रही है. इसलिए पाकिस्तान बौखलाहट में ऐसी हरकतें कर रहा है.

इस आतंकी हमले के बाद देश भर में पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ लोगों का गुस्सा देखने को मिल रहा है. पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में लोगों ने आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के पुतले को फांसी पर लटकाया है. यहां लोगों ने पीएम से सवाल पूछा है कि देश के जवान कबतक शहादतें देते रहेंगे. इस हमले में अपने बेटे को खोने वाले भागलपुर के सीआरपीएफ जवान रतन ठाकुर के पिता ने कहा है कि वे अपना दूसरा बेटा भी देश की सेवा में भेज देंगे लेकिन पाकिस्तान को ऐसा जवाब मिलना चाहिए कि वहां की सरकार इसे याद रखे.

Related posts

एक साल में हमें जो करना था उसमें सफल हुए: सीएम

digitalhimachal

कांग्रेस के मैनिफेस्टो पर BJP का हमला, अरुण जेटली बोले- घोषणा पत्र में किए गए वादे खतरनाक

digitalhimachal

कांगड़ा: शाहपुर कालेज के पास दुकानदार से 115 ग्राम चरस बरामद

digitalhimachal

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy