Bilaspur News in Hindi congress Hamirpur News in Hindi Himachal Mandi News in Hindi Poltics

लोकसभा चुनाव: राणा का चुनाव लड़ने से इंकार, रामलाल को फिर बुलाया दिल्ली

Hamirpur :  संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस टिकट को लेकर पेच फंस गया है। भाजपा के दिग्गज नेता प्रेम कुमार धूमल को विधानसभा चुनाव में परास्त करने वाले सुजानपुर के विधायक राजेंद्र राणा भी चुनाव लड़ने से इंकार कर रहे हैं।

इसी बीच नयनादेवी से विधायक रामलाल ठाकुर को कांग्रेस आलाकमान ने फिर दिल्ली बुला लिया है। बुधवार को दिल्ली पहुंचते ही रामलाल ने प्रदेश कांग्रेस प्रभारी रजनी पाटिल से मुलाकात की है।

उधर, पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर और नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री भी दिल्ली में डेरा डाले हैं। वीरभद्र ने बुधवार को एआईसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल, कोषाध्यक्ष अहमद पटेल और रजनी पाटिल से मुलाकात कर चर्चा की है।
दूसरी ओर पूर्व भाजपा सांसद सुरेश चंदेल भी दिल्ली में डटे हैं। वह कभी भी कांग्रेस का हाथ थाम सकते हैं। बताते हैं कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मिलने के बाद भी भाजपा नेता सुरेश चंदेल संतुष्ट नहीं हैं।

जनभावनाओं के खिलाफ नहीं जा सकता : राणा

सूत्रों के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने भी चंदेल से बातचीत की, लेकिन बात नहीं बनी। प्रदेश की चारों लोकसभा सीटों के लिए कांग्रेस प्रत्याशियों का एलान 29 मार्च को होने वाली स्क्रीनिंग कमेटी के बाद हो सकता है।

सुजानपुर से कांग्रेस के विधायक बने राजेंद्र राणा ने दिल्ली से फोन पर बताया कि उनकी चुनाव लड़ने की कोई इच्छा नहीं है। सुजानपुर क्षेत्र की जनता को वह अपना परिवार समझते हैं।

जनता ने उन्हें विधायक चुना है। वह क्षेत्र के लोगों की भावनाओं के खिलाफ नहीं जा सकते। कांग्रेस हमीरपुर संसदीय क्षेत्र से जिताऊ उम्मीदवार उतारेगी, सभी मिलकर जीत सुनिश्चित करेंगे।

दिल्ली में वीरभद्र से आज मिलेंगे सुखराम और आश्रय

मंडी संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस टिकट की जंग के बीच पंडित सुखराम पोते आश्रय के साथ वीरवार को दिल्ली में वीरभद्र सिंह से मिलेंगे। कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक से एक दिन पहले इस मुलाकात को मंडी के राजनीतिक घटनाक्रम की कड़ी में अहम माना जा रहा है।

मंडी से कांग्रेस टिकट पर चुनाव लड़ने की चाह लिए आश्रय वीरभद्र सिंह से उनके घर पर जाकर आशीर्वाद लेंगे। आश्रय के बाद पंडित सुखराम भी वीरभद्र से मिलेंगे। आश्रय ने बुधवार को बताया कि दादा पंडित सुखराम के साथ वह नई दिल्ली में ही हैं।

वीरभद्र सिंह से मिलकर चर्चा करेंगे कि कैसे एकजुट होकर चुनाव लड़ना है। उन्होंने कहा कि टिकट पर कांग्रेस हाईकमान को ही फैसला लेना है और 28 मार्च को ही टिकट पर स्थिति साफ हो सकती है।

Related posts

देश की पहली पेपरलेस विधानसभा बनी हिमाचल

digitalhimachal

इस्लामाबाद से रवाना हुए विंग कमांडर अभिनंदन, दोपहर बाद पहुंचेंगे वाघा बॉर्डर पर

digitalhimachal

टांडा में नहीं मिल रही मरीजों को कीमोथेरेपी, पठानिया ने घेरी अपनी ही सरकार

digitalhimachal

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy